tata sky
लोकसभा चुनाव में BJP चखेगी हार का स्वादः चंद्रबाबू नायडू           मायावती के बयान पर बोले अखिलेश- गठबंधन पर चर्चा होने की बात हुई साफ           दलितों से अत्याचार के मामलों के लिए विशेष कोर्ट का गठन किया जा रहा: PM मोदी           एक परिवार की पूजा करने वाले कभी लोकतंत्र की पूजा नहीं कर सकतेः PM मोदी          14 लेन का सफर दिल्ली-NCR के लोगों के जीवन को सुगम बनाने वाला है: PM          पीएम मोदी ने किया ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन           खेल सिर्फ खेल नहीं होते, वह जीवन के मूल्यों को सिखाते है: पीएम मोदी           फिट इंडिया की बात करता हूं तो मानता हूं कि जितना हम खेलेंगे, उतना ही देश खेलेगा: PM           पुणे: क्राइम ब्रांच ने 59 किलो चंदन बरामद किया, 1 शख्स गिरफ्तार           मोदी सरकार के विरोध में विश्वासघात दिवस मना रहे कांग्रेस नेताओं पर मुकदमा दर्ज           BJP के मंत्रियों को मां नर्मदा की परिक्रमा करने का चैलेंज देता हूं: दिग्विजय           श्रीनगर: वाहन पलटने से हादसा, CRPF के 19 जवान घायल           पीएम मोदी ने किया दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे का उद्घाटन          
होम | दुनिया | अमेरिका ने लॉन्च किया दुनिया का सबसे शक्तिशाली रॉकेट 'फॉल्कन हेवी', साथ में भेजी गई स्‍पोर्ट्स कार

अमेरिका ने लॉन्च किया दुनिया का सबसे शक्तिशाली रॉकेट 'फॉल्कन हेवी', साथ में भेजी गई स्‍पोर्ट्स कार

 

वाशिंगटनः बुधवार को अमेरिका ने दुनिया का सबसे शक्तिशाली रॉकेट फाल्कन हैवी को सफलतापूर्वक अंतरिक्ष में लॉन्च किया। अमेरिका का यह नया कीर्तिमान इसलिए महत्वपूर्ण बताया जा रहा है क्योंकि इसका वजन 63.8 टन है। इस रॉकेट का वजन दो स्पेस शटर के वजन के बराबर है। रॉकेट की लॉंचिंग फ्लोरिडा के जॉन एफ कैनेडी स्पेस सेंटर से की गयी।

भारतीय समयानुसार इस रॉकेट को बुधवार रात 2 बजकर 25 मिनट पर लॉन्च किया गया। यह धरती की ऑर्बिट से और मंगल की ऑर्बिट तक रोटेट करेगा। एलन मस्क के मुताबिक अपने ऑर्बिट में पहुंचने के बाद इसकी रफ्तार 11 किलोमीटर/सेकंड की होगी। 

 

बता दें कि इस मौके को और खास बनाने के लिए अमेरिका की प्राइवेट स्पेस कंपनी  SpaceX के फाउंडर इलान मस्क ने अपनी स्पोर्ट्स कार रोडस्टर को भी रॉकेट में रखकर स्पेस भेजा है। कार के साथ 3 कैमरे भी लगाए गए हैं जिससे वो अंतरिक्ष की तस्वीरों को क़ैद कर सकें। हालांकि मस्क के मुताबिक़ मंगल तक कार के पहुंचने की उम्मीद कम ही है। ऐसा पहली बार है कि किसी प्राइवेट कंपनी ने बिना किसी सरकारी मदद के इतना बड़ा रॉकेट बना दिया।

इसकी खासियत की बात करें तो SpaceX  का इंजन 27 मर्लिन 1D की गुणवत्ता वाला है। इसकी लंबाई 70 मीटर (230 फीट) है और वजन 63.8 टन है। यह 64 टन का भार वहन करने में सक्षम है। इसकी ताकत 18 एयरक्राफ्ट-747 के बराबर है। 

 

बता दें कि सैटर्न-5 अब तक का सबसे पॉवरफुल रॉकेट था, अब उसका इस्तेमाल होना बंद हो गया है। सैटर्न-5 में 140 टन पेलोड ले जाने की ताकत थी। नासा ने सैटर्न-5 की मदद से ही चांद पर खोज के लिए कई मिशन भेजे थे। स्काईलैब भी इसी से लॉन्च की गई थी। यह 1973 तक प्रचलन में था।

वहीं खबरों की मानें तो यह अभी इस्तेमाल हो रहे सबसे पॉवरफुल रॉकेट डेल्टा-4 हैवी से दोगुना वजन ले जा सकता है। फॉल्कन हैवी से आने वाले वक्त में लोगों को चांद और मंगल पर भेजा जा सकता है।

फिलहाल, इसमें फ्यूचर का स्पेस सूट पहने एक पुतला और कंपनी के मालिक एलन मस्क की चेरी रेड कलर की टेस्ला कार भेजी गई है। 


जनता लाइव टीवी

Right Ads
Google Play

© Copyright Jantatv 2016. All rights reserved. Designed & Developed by: Paramount Infosystem Pvt. Ltd.