यूपी के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने राहुल गांधी के बयान पर EC को भेजी रिपोर्ट          यूपी: सीएम योगी संभल में आज करेंगे चुनावी रैली को संबोधित          सीएम योगी आज लखनऊ के हनुमान मंदिर में करेंगे पूजा          72 घंटे का बैन खत्म होने के बाद आज फिर चुनाव प्रचार में उतरेंगे सीएम योगी          
होम | देश | मायावती की मुश्किलें बढ़ीं, SC ने कहा, मूर्तियों और हाथी की प्रतिमाओं पर खर्च जनता का पैसा लौटाएं

मायावती की मुश्किलें बढ़ीं, SC ने कहा, मूर्तियों और हाथी की प्रतिमाओं पर खर्च जनता का पैसा लौटाएं

 

लोकसभा चुनाव से पहले बहुजन समाज पार्टी (BSP) की सुप्रीमो मायावती को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका लगा है. सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को एक याचिका की सुनवाई के दौरान टिप्पणी करते हुए कहा कि BSP सुप्रीमो मायावती ने अपनी और हाथियों की मूर्तियां बनाने में जितना जनता का पैसा खर्च किया है, उसे वापस करना चाहिए. मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस रंजन गोगोई कर रहे थे. इस मामले की अगली सुनवाई 2 अप्रैल को होगी.

सुप्रीम कोर्ट साल 2009 में दायर उस याचिका पर सुनवाई कर रहा था, जिसमें उन्हें सरकारी पैसे से मूर्तियां बनाने से रोकने का निर्देश देने को कहा गया था. मूर्तियों पर खर्च हुए सरकारी पैसे को लेकर सुप्रीम कोर्ट में 10 साल पहले याचिका दायर की गई थी. इस पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा, ”पहली नजर में तो बीएसपी सुप्रीमो मायावती को मूर्तियों पर खर्च किया गया जनता का पैसा लौटाना होगा. चीफ जस्टिस ने कहा कि इस मामले की अगली सुनवाई 2 अप्रैल को होगी.” 

31 जनवरी को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने यूपी में पूर्ववर्ती बसपा सरकार द्वारा बनाए गए स्मारकों और पार्कों के निर्माण में कथित वित्तीय अनियमितताओं को लेकर 7 जगहों पर छापेमारी की थी. यूपी राजकीय निर्माण निगम और निजी फर्मों के इंजीनियरों के घरों पर भी छापेमारी की गई. एजेंसी ने यूपी राज्य सतर्कता विभाग द्वारा दर्ज मामले के आधार पर मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया है.

मायावती की बसपा सरकार ने 2007-11 कार्यकाल के दौरान लखनऊ में अंबेडकर स्मारक, कांशीराम स्मारक, बौद्ध विहार शांति उपवन, कांशी राम इको-गार्डन, कांशीराम संस्कृति स्थल, रमाबाई अंबेडकर स्थल और प्रतीक स्थल समता मूलक चौराहे का निर्माण किया था. इसके अलावा नोएडा की 33 एकड़ जमीन पर दलित प्रेरणा स्थल और ग्रीन गार्डन भी बनाया गया था.सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार, इन स्मारकों की कुल लागत 5,919 करोड़ रुपये आई थी. यूपी सतर्कता विभाग ने 2014 में कई इंजीनियरों और अफसरों के खिलाफ कथित वित्तीय अनियमितताओं के आरोप में केस दर्ज किया था.


जनता लाइव टीवी

Right Ads
Google Play

© Copyright Jantatv 2016. All rights reserved. Designed & Developed by: Paramount Infosystem Pvt. Ltd.