tata sky
पंजाब दौरे पर कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो, अमरिंदर सिंह से करेंगे मुलाकात          पंचकूला-मल्टीपल प्लॉट अलॉटमेंट मामले में खुलासा, मामले में 59 लोगों के खिलाफ किए गए केस दर्ज          पानीपत-आज से शुरू होगा जिला पासपोर्ट कार्यालय, सांसद अश्विनी चोपड़ा करेंगे कार्यालय का उद्घाटन          परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार भी रहेंगे मौजूद, पोस्ट ऑफिस में बनाया गया है पासपोर्ट कार्यालय          दिल्ली-यमुना में दूषित पानी का मामला, NGT में दिया जाएगा मामले का ब्यौरा          चंडीगढ़-दिल्ली में मुख्य सचिव के साथ बदसलूकी का मामला, हरियाणा की आईएएस एसोसिएशन ने भी जताया विरोध           बहादुरगढ़-पुलिस ने एक घर से 2 युवतियों को छुड़वाया, ह्यूमन ट्रैफिकिंग से जुड़ा मामला होने की आशंका           घर में बंधक बनाकर रखी गई थीं दोनों युवतियां, पड़ोसियों ने चिल्लाने की आवाज सुनकर दी शिकायत          चंडीगढ़-मुख्यमंत्री करेंगे ACS के साथ बैठक, बैठक में मंथन शिविर में हुए फैसलों पर होगी चर्चा         
होम | देश | नाविक मनीष गिरी ने लिंग परिवर्तन कराया, तो नौसेना ने नौकरी से हटाया

नाविक मनीष गिरी ने लिंग परिवर्तन कराया, तो नौसेना ने नौकरी से हटाया

 

नई दिल्ली: भारतीय नौसेना के सामने पहली बार अनोखा मामला सामने आया है। एक सैनिक अपनी मर्जी से जेंडर चेंज कराकर महिला बन गया है। मामले की जानकारी होने के बाद नौसेना ने रक्षा मंत्रालय में उनका केस भेजा था, जहां से फैसला आया कि उन्हें नौसेना से बर्खास्त कर दिया जाए। नौसेना में गिरी की 15 साल की सेवा पूरी नहीं होने के कारण अब उन्हें पेंशन भी नहीं मिलेगी.

आपको बता दें कि नौसेना के नाविक मनीष गिरी ने छुट्टी के दौरान दिल्ली के किसी प्राइवेट फैसिलिटी में जेंडर चेंज की सर्जरी कराई थी। इसके बाद गिरी विशाखापटनम के नौसेना बेस में महिला बनकर वापस लौटे। उन्होंने बाल बढ़ा लिए थे और साड़ी पहनना शुरू कर दिया था।

सेक्स चेंज करवाने के बाद मनीष ने अपना नाम बदल कर ‘साबी’ रख लिया था. शुक्रवार को नेवी ने रक्षा मंत्रालय से स्वीकृति मिलने के बाद ही उसे डिस्चार्ज लेटर देते हुए कहा कि ‘नियमों के अनुसार प्रशासनिक तौर पर उसे सेवा से मुक्त किया जाता है, सर्विस नो लॉन्गर रिक्वायर्ड.’ नौकरी करते हुए 15 साल न होने की वजह से मनीष को पेंशन भी नहीं दिया जाएगी।

भारतीय सेना में यह पहला ऐसा केस है। 1990 के बाद से सेना में कुछ पदों पर महिलाओं की भर्ती की जाती रही है, पर नाविक, सैनिक जैसे कुछ पदों पर सिर्फ पुरुषों की भर्ती का ही प्रावधान है। ट्रांसजेंडरों के लिए अब तक भारतीय सेना में नौकरी का कोई विकल्प नहीं है।

वहीं एक अखबार को दिए गए इंटरव्यू में मनीष ने बताया कि ‘मैंने सात साल तक देश की सेवा की है, मैंने अपना काम बखूबी किया है. सिर्फ सेक्स चेंज करवाने की वजह से मुझे नौकरी से नहीं निकाला जा सकता है। मैं कोई चोर या आतंकवादी नहीं हूं. मैं जस्टिस के लिए लड़ूंगी।’


जनता लाइव टीवी

Right Ads
Google Play

© Copyright Jantatv 2016. All rights reserved. Designed & Developed by: Paramount Infosystem Pvt. Ltd.