होम | हरियाणा | रेवाड़ी सामूहिक दुष्कर्म: मुख्य आरोपी गिरफ्तार, दो अब भी फरार

रेवाड़ी सामूहिक दुष्कर्म: मुख्य आरोपी गिरफ्तार, दो अब भी फरार

 

चंडीगढ़: हरियाणा के रेवाड़ी में 19 वर्षीय युवती का अपहरण करके उसके साथ सामूहिक बलात्कार के मामले में रविवार को पुलिस अधीक्षक को हटा दिया गया है.

मामले में सैन्यकर्मी सहित फ़रार तीन आरोपियों खोज जारी है. पुलिस ने कई स्थानों पर रविवार को छापे मारे.

उधर, पीड़िता के परिवार ने न्याय की गुहार लगाते हुए ज़िला प्रशासन द्वारा शनिवार को उनको मुआवज़ा के तौर पर दिए गए दो लाख रुपये का चेक वापस करने का निर्णय लिया है.

इस बीच बढ़ते दबाव के चलते पुलिस ने उस रजिस्टर्ड मेडिकल प्रैक्टिशनर (आरएमपी) संजीव को गिरफ्तार किया जिसने सबसे पहले युवती की जांच की थी और उस ग्रामीण को भी पकड़ा जिसकी संपत्ति से वह पाई गई थी.

आरोपियों ने युवती के साथ सामूहिक बलात्कार के बाद जब उसकी हालत बिगड़ने लगी तब इस मेडिकल प्रैक्टिशनर को बुलाया था.

रविवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने पुलिस महानिदेशक बीएस संधू से रेवाड़ी से युवती के सामूहिक बलात्कार में जांच प्रक्रिया की जानकारी ली और ज़िले के पुलिस प्रमुख का स्थानांतरण कर दिया.

अधिकारियों ने कहा कि विशेष जांच दल (एसआईटी) प्रमुख और मेवात एसपी नाजनीन भसीन ने रेवाड़ी में संवाददाताओं को बताया कि निशू नाम का मुख्य आरोपी गिरफ्तार कर लिया गया है. दो अन्य आरोपियों पंकज, जो सेना का जवान है और मनीष को पकड़ने के प्रयास जारी हैं.
इससे पहले पुलिस महानिदेशक बी एस संधू ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से मिलकर उन्हें इस मामले में जांच में हुई प्रगति से अवगत कराया. संधू ने कहा कि गिरफ्तार दो अन्य लोगों में डॉ संजीव शामिल है जिसने अपराध के बाद सबसे पहले युवती को देखा था. दूसरा आरोपी दीनदयाल गिरफ्तार हुआ है जिसके कमरे में उससे कथित रूप से दुष्कर्म हुआ था.

रेवाड़ी की रहने वाली स्कूल टॉपर छात्रा (19) को बुधवार को पड़ोसी महेंद्रगढ़ जिले के कनीना कस्बे में एक बस स्टॉप से अगवा कर लिया गया था. सरकार द्वारा सम्मानित हो चुकी छात्रा कोचिंग के लिए जा रही थी. उसे कथित रूप से नशीले पदार्थ का सेवन कराके सामूहिक दुष्कर्म किया गया.

आधिकारियों ने बताया कि खट्टर का आज पंजाब के जालंधर में कार्यक्रम था लेकिन उन्होंने अपने जालंधर दौरे को छोटा कर दिया और दोपहर में चंडीगढ़ पहुंच गये. अधिकारियों ने बताया कि खट्टर ने पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) को अपने कार्यालय में तलब किया और जांच में हुई प्रगति की समीक्षा की.

मुख्यमंत्री ने संधू से यह सुनिश्चित करने को कहा कि सभी आरोपियों को जल्द गिरफ्तार किया जाये. उन्होंने बताया कि मामले में त्वरित कार्रवाई में विफल रहने का आरोप झेल रहे रेवाड़ी के पुलिस अधीक्षक राजेश दुग्गल को हटा दिया गया है और उनका स्थान मुख्यमंत्री की सुरक्षा में तैनात पुलिस अधीक्षक राहुल शर्मा लेंगे.

दुग्गल अब हिसार में हरियाणा आर्म्ड पुलिस की बटालियन की अगुवाई करेंगे. पीड़िता के परिवार ने आरोप लगाया कि उनकी शिकायत पर पुलिस उचित कार्रवाई करने में विफल रही है और रेवाड़ी एवं महेंद्रगढ़ जिलों की पुलिस इकाई के बीच अधिकार क्षेत्र को लेकर विवाद की वजह से कार्रवाई में देरी हुई.

ट्यूबवेल के जिस कमरे में छात्रा के साथ यह घिनौनी घटना घटी, उसके मालिक दीनदयाल ने पुलिस को बताया कि तीनों आरोपियों ने घटना के दिन उससे कमरे की चाबियां ली थीं. पुलिस ने दावा किया कि दीनदयाल अपराध के बारे में जानता था, लेकिन उसने इसकी रिपोर्ट नहीं की। मामले की जांच में शामिल एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हरियाणा, राजस्थान, दिल्ली समेत कई अन्य राज्यों में तीनों प्रमुख आरोपियों को पकड़ने के लिए कई जगहों पर छापेमारी की जा रही है.


जनता लाइव टीवी

Right Ads
Google Play

© Copyright Jantatv 2016. All rights reserved. Designed & Developed by: Paramount Infosystem Pvt. Ltd.