Top ADVT
होम | बिजनेस | राजन के बयान से कांग्रेस का पर्दाफाश, बताया- बैंकों के NPA के लिए कौन-कौन हैं 'गुनहगार'

राजन के बयान से कांग्रेस का पर्दाफाश, बताया- बैंकों के NPA के लिए कौन-कौन हैं 'गुनहगार'

 

नई दिल्लीः भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने गैर निष्पादित परिसंपत्तियों (NPA) के लिए यूपीए सरकार के कार्यकाल को जिम्मेदार ठहराया है. राजन ने संसदीय समिति को भेजे गए अपने जवाब में यह बात कही है. जिसमें उन्होंने यह भी कहा कि घोटालों की जांच और यूपीए सरकार की नीतिगत शून्यता के चलते बैंकों का डूबा हुआ कर्ज बढ़ता चला गया.
 

राजन ने बताया है कि बैंकों ने जोंबी लोन को एनपीए में बदलने से बचाने के लिए ज्यादा लोन दिए. 2006 से पहले बुनियादी क्षेत्र में पैसा लगाना फायदेमंद था. इस दौरान SBI कैप्स और IDBI बैंकों ने खुले हाथ से कर्ज दिए. बैंकों का अति आशावादी होना घातक साबित हुआ. लोन देने में सावधानी नहीं रखी गई. इसके साथ ही जितने लाभ की उम्मीद की गई थी, उतना लाभ नहीं हुआ.

 

राजन के बयान से कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ सकती हैं, दरअसल कांग्रेस लगातार मोदी सराकर को बढ़े एनपीए के लिए जिम्मेदार बताती रही है. राजन की नियुक्ति यूपीए सरकार में ही हुई थी ऐसे में बीजेपी कांग्रेस पर हमले का मौका नहीं गंवाएगी.

 

जुलाई में समिति के सामने पेश हुए पूर्व आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम ने एनपीए संकट से निपटने के लिए पूर्व आरबीआइ गवर्नर राजन की तारीफ की थी. सुब्रमण्यम के बयान के बाद ही कमेटी ने राजन को समिति इस विषय में पूरा ब्यौरा देने को कहा था. 2013 से 2016 रिजर्व बैंक के गवर्नर रहे रघुराम राजन इस वक्त शिकागो यूनिवर्सिटी में इकोनॉमिक्स के प्रोफेसर हैं.


इस समय देश के सभी बैंक एनपीए की समस्या से जूझ रहे हैं. दिसंबर 2017 तक बैंकों का एनपीए 8.99 ट्रिलियन रुपये हो गया था जो कि बैंकों में जमा कुल धन का 10.11 फीसदी है. कुल एनपीए में से सार्वजनिक क्षेत्रों के बैंकों का एनपीए 7.77 ट्रिलियन है.


जनता लाइव टीवी

Right Ads
Bottom ads
Google Play

© Copyright Jantatv 2016. All rights reserved. Designed & Developed by: Paramount Infosystem Pvt. Ltd.