अखिलेश यादव ने कहा- जो कांग्रेस है वो बीजेपी है और जो बीजेपी है वो कांग्रेस है           केरल: कोच्‍च‍ि पहुंची तृप्‍त‍ि देसाई ने कहा- सबरीमाला में पूजा करना हमारा मिशन           किम जोंग के सुपरविजन में उत्‍तरी कोरिया ने नए हथियार हाईटेक का किया परिक्षण           पेट्रोल की कीमत में गिरावट, दिल्‍ली में 18 पैसे की कमी के बाद 77.10 रुपए प्रति लीटर हुआ           डीजल की कीमत में गिरावट, दिल्‍ली में 16 पैसे की कमी के बाद 71.93 रुपए प्रति लीटर हुआ           J-K: आतंकियों द्वारा पुलवामा से अगवा किए गए नागरिक का बुलेट से छलनी शव मिला           दिल्ली: पारिवारिक झगड़े के बाद हेड कॉन्स्टेबल ने की खुदकुशी           सबरीमाला विवाद: टैक्सी ड्राइवरों का तृप्ति देसाई को निलक्कल ले जाने से इनकार           सबरीमाला विवाद: मुझ पर हमला हो सकता है, मुझे धमकियां मिली- तृप्ति           अमृतसर में आतंकी जाकिर मूसा के घुसने की खबर, पुलिस ने लगाए पोस्टर          
होम | हरियाणा | दो फाड़ हुई इनेलो, चौटाला ने दोनों पोतों को पार्टी से निकाला

दो फाड़ हुई इनेलो, चौटाला ने दोनों पोतों को पार्टी से निकाला

 

इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) और चौटाला परिवार में चल रहे विवाद के बीच शुक्रवार को राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश चौटाला ने अपने दोनों पोतों सांसद दुष्यंत चौटाला और दिग्विजय चौटाला को पार्टी से निकाल दिया. उन्होंने तुरंत प्रभाव से दोनों की प्राथमिक सदस्यता भी रद्द कर दी. साथ ही, पार्टी की संसदीय समिति के नेतृत्व से भी हटा दिया. दुष्यंत और दिग्विजय पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप है.

वहीं शुक्रवार शाम पार्टी सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला के फैसले के विरोध में फतेहाबाद युवा इनेलो की पूरी कार्यकारिणी ने इस्तीफा देने का ऐलान कर दिया है.

इस्तीफा देने वालों में पूर्व जिलाध्यक्ष राकेश सिहाग, युवा इनेलो के जिलाध्यक्ष अजय संधु, एवं युवा इनेलो के फतेहाबाद हलका प्रधान अनिल नहला, रतिया प्रधान जसपाल संधु, और टोहाना हलके के अध्यक्ष मनोज धारसूल और फतेहाबाद शहरी अध्यक्ष विकास मेहता के साथ साथ ने भी अपने पदों के साथ साथ इनेलो छोडऩे का भी ऐलान कर दिया है.

शुक्रवार सांय जारी एक बयान में उपरोक्त सभी युवा नेताओं ने कहा है कि दुष्यंत चौटाला ने पिछले छह साल में अपना खून-पसीना एक करते हुए इनेलो को संकट के समय से उबारा लेकिन उनके प्रयासों की सराहना करने की बजाए उन पर झूठे आरोप लगाकर उन्हें पार्टी से बाहर कर दिया गया है. पूर्व युवा इनेलो नेताओं ने कहा कि दिग्विजय चौटाला ने 72 घंटे तक भूखा-प्यासा रहकर प्रदेश सरकार को छात्र संघ चुनावों को बहाल करने के लिए मजबूर किया.

उनके प्रयत्नों के चलते ही आज इनसो देश का सबसे शक्तिशाली छात्र संगठन बन गया है. लेकिन पार्टी प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला ने उनके प्रयत्नों को भी दरकिनार करते हुए पार्टी के सबसे लोकप्रिय नेताओं दुष्यंत व दिग्विजय चौटाला को ही पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया. उन्होंने कहा कि इनेलो को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि जल्द ही सभी युवा इनेलो नेता हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला से मुलाकात कर आगे की रणनीति तय करेंगे.


जनता लाइव टीवी

Right Ads
Google Play

© Copyright Jantatv 2016. All rights reserved. Designed & Developed by: Paramount Infosystem Pvt. Ltd.