tata sky
होम | सेहत | मैटरनिटी लीव के तहत मिलेगी 26 सप्ताह की छुट्टी

मैटरनिटी लीव के तहत मिलेगी 26 सप्ताह की छुट्टी

मैटरनिटी लीव को लेकर बिल लोकसभा में पारित कर दिया गया। इस बिल के मुताबिक अब लीव 12 हफ्तों से बढ़ाकर 26 हफ्ते करने के निर्देश जारी हुए हैं। बिल के पास होते ही संगठित क्षेत्रों में काम करने वाली महिलाओं को गर्भवती होने पर कई फायदे होंगे। तीसरे या उससे बाद के बच्चों के लिए नए नियमों का फायदा नहीं मिलेगा। इससे देश की 18 लाख वर्किंग वुमैंस को फायदा होगा। नियमों को नहीं मानने पर इम्प्लॉयर्स को 3 से 6 महीने की सजा और 5 हजार रुपए का जुर्माना हो सकता है।

मैटरनिटी बेनिफ़िट (संशोधित) 2016 की मुख्य बातें

-पहले और दूसरे बच्चे के लिए 26 हफ्ते की मैटरनिटी लीव मिल सकेगी, जो पहले 12 हफ्ते थी.

-तीसरे या इससे ज्यादा बच्चों के लिए 12 हफ्ते की छुट्टी का ही प्रावधान रहेगा.

-तीन महीने से कम उम्र के बच्चों को गोद लेने वाली या सेरोगेट माँओं को भी 12 हफ़्ते की छुट्टी दी जाएगी.

-50 से ज़्यादा कर्मचारियों वाले दफ्तर के आसपास क्रेच का इंतज़ाम करना होना, जहां माँएं काम के घंटों के दौरान चार बार अपने बच्चे से मिलने जा सकेंगीं.

-अगर संभव हो तो कंपनी महिलाओं को घर से ही काम करने की अनुमति दे सकती है.

-हर प्रतिष्ठान को उनकी नियुक्ति के समय से महिलाओं को इन लाभों को देना होगा.


जनता लाइव टीवी

Right Ads

© Copyright Jantatv 2016. All rights reserved. Designed & Developed by: Paramount Infosystem Pvt. Ltd.