नेशनल हेराल्ड केस: दिल्ली हाईकोर्ट में एजेएल की याचिका पर आज सुनवाई           मुंबई: मराठा आरक्षण मामले में आज पिछड़ा वर्ग आयोग सौंपेगा जांच रिपोर्ट           पेट्रोल की कीमत में गिरावट, दिल्ली में 15 पैसे की कमी के बाद 77.28 रु./लीटर हुआ           डीजल की कीमत में गिरावट, दिल्ली में 10 पैसों की कमी के बाद 72.09 रु./लीटर हुआ           पीएम मोदी सिंगापुर में आसियान-इंडिया इनफॉर्मल ब्रेकफास्ट समिट में शामिल हुए           दिल्ली: बवाना इंडस्ट्रियल इलाके के प्लास्टिक के गोदाम में लगी आग काबू में           दिल्लीः वसंत कुंज में डबल मर्डर, महिला फैशन डिजाइनर और नौकर की हत्या           दिल्लीः डबल मर्डर केस में पूछताछ के लिए 3 नौकर हिरासत में लिए गए           गाजा तूफान की आहट से सहमा दक्षिण भारत, तटीय इलाकों में हाईअलर्ट           उत्तर भारत के तीन राज्यों में भारी बर्फबारी से रफ्तार पर ब्रेक           जम्मू कश्मीर में जमकर बर्फबारी, सर्दी के शुरुआती दिनों में सफेद हुई घाटी         
होम | देश | मैं अब डरने लगा हूं क्योंकि लड़कियों ने भी बीयर पीना शुरु कर दिया है- पर्रीकर

मैं अब डरने लगा हूं क्योंकि लड़कियों ने भी बीयर पीना शुरु कर दिया है- पर्रीकर

 

पणजी। गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रीकर को लड़कियों की चिंता सताने लगी है। उन्हें इस बात से डर लगने लगा है कि लड़कियों ने बियर पीना शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा, मुझे डर लगने लगा है, क्योंकि अब तो लड़कियों ने भी बियर पीना शुरू कर दिया है, सहन शक्ति की सीमा टूट रही है। मनोहर पर्रीकर राज्य विधानमंडल विभाग द्वारा आयोजित किए जाने वाले राज्य युवा संसद को संबोधित करते हुए कहा कि ड्रग्स लेना कोई नई बात नहीं है। उन्होंने वहां मौजूद लोगों की तरफ इशारा करते हुए कहा कि मैं सभी कि मैं इस भीड़ की बात नहीं कर रहा। 

भारतीय प्रोद्यौगिकी संस्थान (आईआईटी) मुम्बई के पूर्व छात्र पर्रिकर ने कहा कि शिक्षण संस्थानों में ड्रग्ल लेना कोई नई परिघटना नहीं है।

उन्होंने अपने छात्र जीवन को याद करते हुए कहा,'जब मैं आईआईटी में था, तो वहां एक छोटा समूह था जो गांजे का नशा करता था। तो, यह कोई आज की परिघटना नहीं है। कुछ छात्रों पर पोर्नोग्राफी (अश्लील फिल्म) का जुनून सवार था।'

उन्होंने कहा कि सरकार ने प्रदेश में मादक पदार्थो के कारोबार के खिलाफ कार्रवाई की है। लेकिन उन्होंने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि मादक पदार्थो की यह समस्या शैक्षणिक संस्थानों में प्रवेश कर गई है।

उन्होंने कहा कि मादक पदार्थो पूरे नेटवर्क के खिलाफ कार्रवाई शुरू हुई है और यह तब तक बंद नहीं होगी जब तक मादक पदार्थ का कारोबार खत्म नहीं हो जाता।

मुख्यमंत्री ने कहा, 'मादक पदार्थ बेचने वाले 170 लोगों की गिरफ्तारी के बाद 13 अगस्त 2017 को मैंने निर्देश दिए थे। नियमानुसार कम मात्रा में मादक पदार्थ मिलने पर आठ से 15 दिन या एक महीने में जमानत मिल जाती है। हमारे न्यायालय भी दयालु हैं.. लेकिन कम से कम दोषी पकड़े जाते हैं।'

 


जनता लाइव टीवी

Right Ads
Google Play

© Copyright Jantatv 2016. All rights reserved. Designed & Developed by: Paramount Infosystem Pvt. Ltd.