tata sky
होम | देश | ISRO लांच करेगा सबसे वजनी सैटेलाइट, ग्रामीण भारत के लिए वरदान साबित होगा

ISRO लांच करेगा सबसे वजनी सैटेलाइट, ग्रामीण भारत के लिए वरदान साबित होगा

 

नई दिल्ली: इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (इसरो) जल्द ही देश का सबसे वजनी कम्युनिकेशन सैटेलाइट जीसैट-11 लॉन्च करेगा. इसका वजन 5.6 टन है. 

बताया जाता है कि लांच होने के बाद यह सैटेलाइट मोदी सरकार के 'डिजिटल इंडिया' अभियान को तगड़ी रफ्तार देगा. जीसैट-11 काफी बड़ा सैटेलाइट है, जिसका हर सौर पैनल 4 मीटर से भी बड़ा है और यह 11 किलोवाट ऊर्जा का उत्पादन करेगा.

लगभग 500 करोड़ रुपये की लागत से तैयार किये गये इस सैटेलाइट की क्षमता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जानकारों के मुताबिक, भारत ने अब तक जितने संचार सैटेलाइट छोड़े हैं, अकेले जीसैट-11 की क्षमता उन सबके बराबर है.

यह इंटरनेट सेवाएं देने वाला देश का पहला सैटेलाइट होगा और ऐसा माना जाता है कि भारत में सैटेलाइट आधारित इंटरनेट सेवाओं के विस्तार में इससे क्रांतिकारी बदलाव आयेगा.

बताते चलें कि सरकार की योजना आनेवाले दिनों में ग्राम पंचायत स्तर तक इंटरनेट सेवाएं पहुंचाने की है और यह सैटेलाइट इसमें बड़ी भूमिका निभायेगा.

भारी-भरकम सैटेलाइट जीसैट-11 को अंतरिक्ष में स्थापित करने लायक क्षमता का रॉकेट फिलहाल इसरो के पास नहीं है, इसलिए इसे फ्रेंच गुयाना से यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के एरियान-5 रॉकेट के जरिए लांच किया जायेगा.

इसरो के अनुसार फिलहाल जीसैट-11 को प्रक्षेपण केंद्र भेजने की तैयारियां चल रही हैं. उम्मीद जतायी जा रही है कि इस उपग्रह को जनवरी के अंत तक लांच कर लिया जायेगा.

यहां यह जानना गौरतलब है कि जीसैट-11 इसरो के इंटरनेट बेस्ड सैटेलाइट सीरीज का हिस्सा है, जिसका मकसद इंटरनेट स्पीड को बढ़ाना है. इसके तहत अंतरिक्ष में 18 महीने में तीन सैटेलाइट भेजे जाने हैं. इसमें पहला सैटेलाइट जून 2017 में भेजा जा चुका है और तीसरा सैटेलाइट इस साल के आखिर में लांच किया जा सकता है.

 


जनता लाइव टीवी

Right Ads
Google Play

© Copyright Jantatv 2016. All rights reserved. Designed & Developed by: Paramount Infosystem Pvt. Ltd.