Top ADVT
होम | दुनिया | इलाज के लिए पसंदीदा देश बन गया भारत, लाखों विदेशियों ने भारत में कराया इलाज

इलाज के लिए पसंदीदा देश बन गया भारत, लाखों विदेशियों ने भारत में कराया इलाज

 

नई दिल्ली : यह भारत के लिए गर्व की बात है कि विदेशियों के लिए भारत बीमारियों का इलाज कराने के लिए पहली पसंद बनता जा रहा है। चिकित्सा क्षेत्र में भारत की ख्याति दुनिया में बढ़ने का यही प्रमाण है कि वर्ष 2016 में 1,678 पाकिस्तानियों और 296 अमेरिकियों सहित दो लाख से अधिक विदेशियों ने भारत आकर अपना इलाज कराया। उदार वीजा नीति के फलस्वरूप चिकित्सा पर्यटन को बढ़ावा मिला है।

 

गृह मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, 2016 में दुनिया भर के 54 देशों के 2,01,099 नागरिकों को चिकित्सा वीजा जारी किये गये। भारत ने 2014 में अपनी वीजा नीति को उदार बनाया है।

 

एक उद्योग मंडल द्वारा किये गये एक सर्वेक्षण में कहा गया है कि भारत के प्रमुख चिकित्सा स्थल के रूप में उभरने का प्राथमिक कारण विकसित देशों की तुलना में यहां काफी कम कीमत पर उचित चिकित्सा सुविधा उपलब्ध होना है। 

 

सर्वेक्षण में कहा गया है कि देश का चिकित्सा पर्यटन 3 अरब डॉलर का होने का अनुमान है, जो 2020 तक बढ़कर 7-8 अरब डॉलर का हो सकता है।

 

आंकड़ों के मुताबिक, 2016 में सबसे ज्यादा चिकित्सा वीजा बांग्लादेशी नागरिकों (99,799) को जारी किये गये। इसके बाद अफगानिस्तान (33,955), इराक (13,465), ओमान (12,227), उज्बेकिस्तान (4,420), नाइजीरिया (4,359) समेत अन्य स्थान है। 

 

इसी के साथ 1,678 पाकिस्तानियों, 296 अमेरिकियों, ब्रिटेन के 370 नागरिकों, रूस के 96 नागरिकों और 75 ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों को भी चिकित्सा वीजा जारी किया गया।

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने पीटीआई-भाषा को बताया कि इनमें से कई वीजा तो ई-वीजा प्रणाली के तहत जारी किये गये। इसमें भारत पहुंचने से पहले यात्री आनलाइन यात्रा दस्तावेज प्राप्त कर लेते हैं। यह योजना 27 नवंबर 2014 को शुरू की गई थी। 


जनता लाइव टीवी

Right Ads
Bottom ads
Google Play

© Copyright Jantatv 2016. All rights reserved. Designed & Developed by: Paramount Infosystem Pvt. Ltd.