Top ADVT
ओडिशा में तितली तूफान से 57 लोगों की मौत, 57 हजार घर क्षतिग्रस्त           उमर खालिद पर हमला मामले में दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट फाइल की           महाराष्ट्र में मोदी आज पीएम आवास योजना के लाभार्थियों से करेंगे मुलाकात           आज फिर पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया जाएगा आशीष पांडे           कोर्ट एमजे अकबर की मानहानि याचिका पर 31 अक्टूबर को सुनवाई करेगा           दिल्ली में अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा ND तिवारी का पार्थिव शरीर           हरियाणा- रेवाड़ी में स्कूल से लौट रही 7 साल की बच्ची का रेप, आरोपी गिरफ्तार           जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सेना पर आतंकी हमला, जैश ए मोहम्मद ने ली जिम्मेदारी           दिल्लीम- लगातार दूसरे दिन घटे तेल के दाम, 24 पैसे सस्ताो हुआ पेट्रोल           पुणे- पीएम मोदी से मिलने जा रहीं तृप्तीम देसाई पुलिस हिरासत में           सबरीमाला मंदिर- आंध्र की पत्रकार समेत 2 महिलाओं ने आधी यात्रा पूरी की           लखनऊ- कुंडा के विधायक राजा भईया आज दोपहर PC करेंगे           लखनऊ- कुंडा के MLA राजा भईया आज कर सकते हैं नई पार्टी का ऐलान         
होम | बिजनेस | अरुण जेटली का अहम फैसला, इन 3 बैंकों का होगा विलय, बनेगा देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक

अरुण जेटली का अहम फैसला, इन 3 बैंकों का होगा विलय, बनेगा देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक

 

मोदी सरकार ने अहम फैसला लेते हुए देना बैंक, विजया बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा के विलय की घोषणा की है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि इससे बैंक और मजबूत होंगे और उनकी कर्ज देने की क्षमता बढ़ेगी। इसके साथ ही उन्होंने कहा, 'विलय के बाद अस्तित्व में आनीवाली इकाई बैंकिंग गतिविधियां बढ़ाएंगी।' एसबीआई की तरह विलय से तीनों बैंकों के कर्मचारियों की मौजूदा सेवा शर्तों पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ेगा। विलय से नए बैंक का कुल बिजनस 14 लाख 82 हजार 422 करोड़ रुपये का हो जाएगा।

 

वहीं, वित्तीय सेवा सचिव राजीव कुमार ने कहा कि इस विलय से परिचालन दक्षता और ग्राहकों की मिलने वाली सेवा बेहतर होगी। उन्होंने कहा कि विलय के बाद अस्तितव में आनेवाला बैंक तीसरा सबसे बड़ा बैंक होगा पैमाने की मितव्ययिता के साथ मजबूत प्रतिस्पर्धी होगा।

 

राजीव कुमार ने तीनों बैंकों के विलय से होनेवाले फायदे भी गिनाए। उन्होंने एक ट्वीट में ग्रैफिक्स शेयर किया, जिसमें कहा गया है-

-विलय से बना नया बैंक देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक होगा।

-आर्थिक पैमानों पर यह मजबूत प्रतिस्पर्धी बैंक होगा।

-इसमें तीनों बैंकों के नेटवर्क्स एक हो जाएंगे, डिपॉजिट्स पर लागत कम होगी और सब्सिडियरीज में सामंजस्य होगा।

-इससे ग्राहकों की संख्या, बाजार तक पहुंच और संचालन कौशल में वृद्धि होगी। साथ ही, ग्राहकों को ज्यादा प्रॉडक्ट्स और बेहतर सेवा ऑफर किए जा सकेंगे।

-विलय के बाद भी तीनों बैंकों के एंप्लॉयीज के हितों का संरक्षण किया जाएगा।

-बैंकों की ब्रैंड इक्विटी सुरक्षित रहेगी।

-तीनों बैंकों को फिनैकल सीबीएस प्लैटफॉर्म पर लाया जाएगा।

-नए बैंक को पूंजी दी जाएगी।

 

 


जनता लाइव टीवी

Right Ads
Bottom ads
Google Play

© Copyright Jantatv 2016. All rights reserved. Designed & Developed by: Paramount Infosystem Pvt. Ltd.