tata sky
बहादुरगढ़-धुंध के कारण टकराईं 20 से ज्यादा गाड़िया, NH-9 पर आसौदा मोड़ के पास हुआ हादसा          दिल्ली- पंजाब CM कैप्टन अमरिंदर करेंगे राहुल गांधी से मुलाकात, राणा गुरजीत के इस्तीफे पर हो सकती है           दिल्ली- GST काउंसिल की 25वीं बैठक शुरू, बैठक में सभी राज्यों के वित्तमंत्री मौजूद          फिल्म पद्मावत को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, हरियाणा समेत 5 राज्यों में बैन के खिलाफ सुनवाई          J&K- पाकिस्तान ने आरएसपुरा में LoC पर तोड़ा सीजफायर, सेना का एक जवान शहीद          फतेहाबाद-घर में घुसकर युवती से गैंगरेप, 2 युवकों पर गैंगरेप का लगा आरोप          दिल्ली-NCR में कोहरे से यातायात प्रभावित, 5 ट्रेनें रद्द,11 के समय में किया गया बदलाव           पंचकूला-डेरा प्रबंधक रंजीत सिंह हत्या का मामला, पंचकूला की विशेष सीबीआई कोर्ट में होगी सुनवाई         
होम | हरियाणा | हरियाणा: गुरुग्राम के सरकारी दफ्तर पर बकाया करोड़ो का क़र्ज़, सरकारी दफ्तर नहीं भरते बिजली का बिल

हरियाणा: गुरुग्राम के सरकारी दफ्तर पर बकाया करोड़ो का क़र्ज़, सरकारी दफ्तर नहीं भरते बिजली का बिल

 

हरियाणा: प्रदेश भर में बिजली निगम की तरफ से गुरूग्राम बिजली निगम सबसे ज्यादा रिवेन्यू देता हैं लेकिन इन दिनों अपने डिफोल्टरों से बिल वसूलने में बिजली विभाग के पसीने छूट रहे हैं। ऐसा इसलिए क्योकि निगम का करीब 35 करोड़ रूपये सरकारी दफ्तरों पर बकाया हैं जिसमें जिले के मुखिया अधिकारी डीसी से लेकर पुलिस कमिश्नर तक के ऑफिस के करोड़ों के बिल पेडिगं हैं।

बता दें कि गुरूग्राम बिजली विभाग हर महिने सरकार के खाते में करोड़ों का रिवेन्यू देता हैं लेकिन गुरूग्राम के सरकारी महकमों पर बिजली निगम का करीब 50 फीसदी बिल पेडिंग हैं। जिनको वसूलने में बिजली विभाग के पसीने छुट रहे हैं। निगम की बात करें तो कुल 35 करोड़ रूपये गुरूग्राम के सरकारी अधिकारियों के ऑफिसों पर पेडिंग हैं।

 

किसी विभाग पर कितना बिल पेडिंग हैं

-डीसी ऑफिस – 2,14,95,266

-जिला कोर्ट  -    1,53,58,362

-एडमिन गुरूग्राम – 43,45,609

-सीएमओ ऑफिस – 25,39,917

-पुलिस कमिश्नर ऑफिस – 19,20,486

-पब्लिक हेल्थ ऑफिसर कॉलोनी – 4,74,669

-पब्लिक हेल्थ डिविजन झाडसा रोड – 41,7,711

-पब्लिक हेल्थ शिवाजी नगर – 33,9,090

-पब्लिक हेल्थ 8 मरला – 45,5,149

 

सरकारी डिपार्टमेंट पर 35 करोड़ रुपये बिजली के बिल बकाया है। बिजली निगम को कर्ज लेकर इन्फ्रास्ट्रक्चर डिवेलप करना पड़ रहा है, जिसका ब्याज कई सौ करोड़ रुपये चुकाना पड़ता है। इन सभी दिक्कतों को देखते हुए बिजली निगम ने सरकार से सिफारिश की है कि इन पर जितना बिजली बिल बकाया है, उसकी अदायगी के लिए सरकार उन्हें आदेश दे।

बताते चलें कि जिन सरकारी विभागों पर बिजली निगम का कई साल से करोड़ों रुपये बकाया है, उन विभागों के हेड ऑफ डिपार्टमेंट को सरकार ने लेटर लिखा है। विभागाध्यक्ष को कहा गया है कि वे जितनी जल्द हो सके बकाया बिजली के बिलों का भुगतान करें।

हैरान करने वाली बात यह है कि खुद बिजली निगम पर 37 लाख रुपये से ज्यादा का बिजली का बिल बकाया है। अगर महीने भर में बकाया बिलों का भुगतान नहीं किया जाता है, तो तमाम विभागों का बिजली कनेक्शन काट दिया जाएगा इसमें खुद बिजली विभाग भी शामिल है।

 


जनता लाइव टीवी

Right Ads
Google Play

© Copyright Jantatv 2016. All rights reserved. Designed & Developed by: Paramount Infosystem Pvt. Ltd.